जानिए परिवार की बर्बादी का कारण बनती हैं इस नाम वाली महिलाएं

0
146

अक्सर आपने देखा होगा कि कई महिलाओं के ऐसे नाम होते हैं जिन्हें बोलने पर थोड़ा अजीब सा लगता है। आइए जानते हैं महिलाओं के ऐसे नामों के बारे में जोकि महिलाओं के नाम नहीं होने चाहिए। शास्त्रों के अनुसार महिलाओं के ये नाम रखने पर या महिलाओं को इन नामों से बुलाने पर भंयकर बर्बादी जैसे परिणाम मिलते हैं।

यहां तक कि जिस महिला का नाम अगर इन शब्दों में होगा और वो जहां भी जाएगी तो उसका परिवार कभी सुखी नहीं रहेगा। ऐसे में परिवार और उसका सारा कुल सब नष्ट हो जाता है। इसलिए गलती से भी किसी औरत को ये नाम कभी नहीं होना चाहिए। नहीं तो परिणाम अच्छे नहीं होते हैं। और आपके जीवन में कुछ भी हो सकता है।

तो आइए जानते हैं महिलाओं के ऐसे ही नामों के बारे में जो व्यक्ति की बर्बादी का कारण बनते हैं।

1. गांधारी

गांधारी एक वृद्ध और महान शक्तिशाली महिला थी। उनका विवाह कौरव वंश में हुआ था। जिसके कारण उन्होंने दुखों का सामना किया। और उनके सभी पुत्रों की मृत्यु हो गई थी। इसलिए कोई भी व्यक्ति गांधारी नाम किसी भी महिला का नहीं रखता है। और ये नाम रखना भी किसी को पसंद नहीं है।

2. कैकई

कैकई राजपरिवार से संबंध रखती थी। लेकिन उसने एक नौकरानी के कहने पर अपने ही परिवार में भेदभाव किया। जिसके कारण उसके परिवार और वंश में दुखों का आगमन हुआ। इसलिए अब कोर्इ भी इस नाम को रखना पसंद नहीं करता है। इस नाम को रखने पर लोग परिवार में दुर्घटना जैसी स्थिति परिवार में होने का भय मानते हैं।

3. मंदोदरी

मंदोदरी का अर्थ होता है दयालु, बुद्धिमान और गुणवान। लेकिन ये रावण की पत्नी थीं। इसलिए कोई भी अपनी बेटी का नाम मंदोदरी कभी नहीं रखता है।

4. मंथरा

मंथरा के कारण ही भगवान राम को देवी सीता और अपने भाई लक्ष्मण समेत 14 साल का वनवास काटना पड़ा था। जिसके चलते कोई भी अपनी बेटी का नाम मंथरा कभी नहीं रखता।

5. द्रोपदी

द्रोपदी पंचाल की राजकुमारी और पांडवों की पत्नी थी। इसके बाद भी लोग अपनी बेटी का नाम द्रोपदी भूलकर भी नहीं रखते। क्योंकि द्रोपदी को पांच पांडवों के साथ विवाह रचाना पड़ा था। और इस बात के चलते कोई भी मां गलती से भी अपनी बेटी का नाम द्रोपदी कभी नहीं रखती है।

6. सूर्पनखा

सूर्पनखा रामायण की एक दुष्ट पात्र है। वो रावण की बहन थी। इसने कई सारे युद्ध कराए। सूप जैसे नथुनों की स्वामिनी होने के कारण उसका नाम सूर्पनखा पड़ा। परंतु कोई भी मां-बाप अपनी बेटी का नाम सूर्पनखा कभी नहीं रखता।