एमएलसी उम्मीदवार के कविता कामारेड्डी मतदान केंद्र का किया दौरा

0
110

हैदराबाद : निजामाबाद एमएलसी के उपचुनाव शांतिपूर्वक जारी है। इसी क्रम में तेलंगाना राष्ट्र समिति के एमएलसी उम्मीदवार के कविता कामारेड्डी ने शुक्रवार को मतदान केंद्र का दौरा किया। कविता ने कामारेड्डी विधायक गंपा गोवर्धन के साथ कामारेड्डी नगरपालिका मतदान केंद्र में जारी मतदान प्रक्रिया का निरीक्षण किया।

इसके बाद कविता ने पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं से अनेक विषयों पर विचार-विमर्श किया। इससे पहले के कविता हैदराबाद से कामारेड्डी पहुंची। इस दौरान रास्ते में पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं ने कविता का कदम-कदम पर भव्य स्वागत किया। आपको बता दें कि मतदान सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक जारी रहेगा।

स्थानीय संगठनों में टीआरएस के लिए स्पष्ट बहुमत होने के चलते परिणाम एकतरफा होने की संभावना है। जब तक कोई अप्रत्याशित घटना न हों, तब तक इस चुनाव में सत्तारूढ़ टीआरएस पार्टी की उम्मीदवार के कविता जीत सुनिश्चित है।

मैजिक फिगर की तुलना में अधिक मतदाताओं के साथ, कांग्रेस और भाजपा के जनप्रतिनिधि टीआरएस पार्टी में शामिल होने के चलते सतापक्ष पूरे जोश में है।

मंत्री वेमुला प्रशांत रेड्डी की उपस्थिति में हाल ही में बड़े पैमाने पर जनप्रतिनिधि पार्टी में शामिल हुए हैं। अब ऐसी स्थिति पैदा की हो गई है कि दोनों राष्ट्रीय पार्टियां डिपाजिट बचाने के लिए संघर्ष करने की नौबत आई है। गौरतलब है कि वी सुभाष रेड्डी कांग्रेस और पोतनकर लक्ष्मीनारायण भाजपा के उम्मीदवार हैं।

जिले में सभी स्थानीय निकायों में कुल 824 मतदाता हैं। इनमें 413 मतदाताओं की पहली प्राथमिकता वोट मिले तो उसी की जीत होगी। कुल मतदाताओं 824 में टीआरएस के 504 जनप्रतिनिधि हैं। इसके साथ ही टीआरएस को एक मैजिक फिगर की तुलना में अपनी खुद के वोट अधिक है।

इसके अलावा 28 सहयोगी एमआईएम के जनप्रतिनिधि भी कविता के समर्थन में वोट करने की संभावना है। जबकि 66 निर्दलीय जनप्रतिनिधि हैं। उनमें से लगभग सभी टीआरएस में शामिल हो चुके हैं। अब कांग्रेस पार्टी के पास 142 जनप्रतिनिधि बचे हैं। इनमें से 75 कांग्रेस जनप्रतिनिधि टीआरएस में शामिल हो चुके हैं।

इससे कांग्रेस के पास अब 67 जनप्रतिनिधि रह गये हैं। साथ ही भाजपा के 85 जनप्रतिनिधि है। इनमें से अब तक 35 से टीआरएस शामिल हुए हैं। इसके चलते टीआरएस को अनुमान है कि वह 700 से अधिक वोट हासिल कर सकती है। कुल मिलाकर टीआरएस की जीत सुनिश्चित है।